Domain Name क्या हैं? Domain Name कितने प्रकार के होते हैं? [पूरी जानकारी]

13
1305

What is Domain Name in Hindi? Domain Name क्या हैं और Domain Name से जुडी सभी जानकारी आपको इस Post में मिलेगी|

हम सभी जानते हैं की Internet पर अपना कोई Blog या Website लाने के लिए एक Domain की जरुरत होती हैं|

जिस तरह आपको अपके नाम और आपके घर को आपके घर के एड्रेस से पहचान होती हैं|

उसी तरह किसी Blog और Website को Internet पर खोजने के लिए भी एक नाम या Address की आवश्यकता होती हैं|

इस Article को अच्छी तरह से पढने के बाद आपको Domain Name के बारे में पूरी जानकारी हो जाएगी|

Domain Name

इस Post को पढने के बाद आपको Google पर, Domain Name in Hindi. Domain Name क्या हैं| कुछ भी search करने की जरुरत नही पड़ेगी|

आपको Domain Name से सम्बंधित सारी जानकारी इसी Post में मिल जाएगी| आपको किसी और Blog या Website पर जाने की जरुरत नही पड़ेगी|

Domain Name क्या हैं (What is Domain Name?)

Domain Name एक प्रकार से Website का पता (Address) हैं| जिसके द्वारा कोई Website User उस Website तक Internet के द्वारा पहुच (Access) पाता हैं|

Domain Name को Internet Address भी कहा जाता हैं|

हर एक Domain Name किसी न किसी के Website का नाम हैं| Domain Name से ही हम किसी Computer को Internet पर खोज और उसकी पहचान कर पते हैं|

हर एक Domain Name का एक Unique IP Address होता हैं| क्योंकि Internet पूरी तरह IP Address पर आधारित (Based) हैं, Domain Name पर नही|

IP Address मतलब Internet Protocol Address. चूँकि IP Address Decimal form में होती हैं जैसे की 192.168.255.130

IP Address को याद करना थोड़ा मुश्किल हैं| इसलिये प्रतेक IP Address को एक Name दे दिया गया, जिसे Domain Name कहते हैं|

वो हर उपकरण जो Internet से Connected होती हैं, उन सब का एक Unique IP Address होती हैं| ये IP Address आपको आपका Internet Service Provider (ISP) उपलब्ध कराता हैं|

प्रतेक Device जैसे की Computer, Tablet और Smart Phone आदि, एक दूसरे से Communicate करने के लिए भी IP Address की जरुरत होती हैं|

Domain Name की जरुरत क्यों होती हैं?

जब आप कोई Website बनाते हैं, तो आप चाहते हैं की Visitor आपकी Site पर आये और देखे की आपने क्या किया हैं, कौन सी Service या Product Provide कराते हैं|

अगर आप ये सब Internet से Connect होने के लिए करना चाहते हैं तो आपको भी एक Unique Domain Name की जरुरत होती हैं| ये Domain Name आपके Website के Server से जुडी होती हैं|

Domain Name कैसे काम करता हैं?

हमारा Internet Domain Name को नही समझता, वो सिर्फ IP Address को समझता हैं|

हमारे लिए IP Address को याद कर पाना मुस्किल हैं| इसलिये हम अपनी सहूलियत के लिए प्रतेक IP Address को एक नाम दे देते हैं, जिसे Domain Name कहते हैं|

IP Address को नाम देने का काम Domain Name Service Provider कम्पनियाँ करती हैं| इसके लिए ये कंपनियां हम से कुछ पैसा भी लेती हैं| जैसे की Go daddy, Big Rock, Name Cheap आदि|

Domain Name Kaise Kaam karta hai

IP को Domain Name देने का काम DNS के द्वारा Domain Name Service Provider करते हैं| DNS का Full FormDomain Name Server” होता हैं|

IP Address में “IP” का मतलब “Internet Protocol” होता हैं| और “Address” का मतलब एक “Unique Number” होता हैं, जो आपके सभी Online Activity से जुड़ा होता हैं|

जैसे की मेरी Website का Domain Name हैं DigitalNewIndia.com

और इसका IP Address 104.27.165.216 हैं| चूँकि DigitalNewIndia.com को याद रखना बहुत आसान हैं जबकि इसके IP Address 104.27.165.216 को याद रखना बहुत मुस्किल हैं|

हमारा Internet तो IP Address पर Based हैं, वो तो Domain Name को समझता नही हैं| फिर कैसे कोई Website Domain Name से Open हो जाती हैं|

चलिए मैं आपको एक Exmple के द्वारा इसके बारे में विस्तार से समझाता हूँ-

जब कोई अपने Computer और mobile के Browser पर कोई वेबसाइट के domain नाम को डालता हैं|

मान लो की आप Browser के द्वारा www.google.com पर जाना चाहते हो| तो आपका Browser इस वेबसाइट को open करने के लिए सबसे पहले DNS को बोलेगा की आप check करो की www.google.com का IP Address आपके पास हैं की नही|

अगर इस DNS के पास www.google.com IP address है तो ठीक हैं नही तो पहला DNS दूसरे DNS को बोलता हैं इसका IP check करो|

जब www.google.com का IP address DNS को मिल जाता हैं तो, DNS Host computer को उस IP Address को भेज देता हैं|

Host computer उस IP Address से जुडी वेबसाइट को आपके ब्राउज़र पर Open कर देता हैं|

Domain Name के प्रकार (Types of Domain Names)

वैसे तो Domain तो कई प्रकार के होते हैं| लेकिन मैं यहाँ आपको कुछ Important domain के बारे में बताऊंगा:

  • Top-Level Domains (TLD)
  • Country Code Top-Level Domains (ccTLD)
  • Internationalized country code Top-Level Domains (IDN ccTLD)
  • Generic Top-Level Domain (gTLD)
  • Second-Level Domains
  • Third-Level domains

1. Top-Level Domains (TLD)

First-Level Domains को ही Top-Level Domain कहते हैं| इस प्रकार के Domains को Internet Domain Extensions भी बोलते हैं|

Top-Level Domain को सबसे पहले सन 1992 में Internet Assigned Numbers Authority (IANA) द्वारा Release किया गया|

Example के तौर पर हमारे Blog का ही Domain Name DigitalNewIndia.com को ही ले लेते हैं|

Domain Detail Information

DigitalNewIndia.com में DigitalNewIndia एक Domain हैं और com या .com Domain Name Extension या Suffix हैं|

.com एक Top Level Domain Extension हैं| दुनिया में सभी Website में से लगभग आधी Website, dot com (.com) का ही प्रयोग करती हैं|

Dot com के अलावा भी कई सारे टॉप लेवल डोमेन (TLD) हैं:

  • .com: Commercial का Short Form “com” हैं|दुनिया में Common Use के लिए सबसे ज्यादा .com Top-Level Domain का प्रयोग किया जाता हैं| .com सुरुआत में सिर्फ Commercial Use के लिए बनाया गया था| लेकिन बाद में इसे सभी के लिए उपलब्ध करा दिया गया|
  • .net: Network का Short Form “net” हैं| .net उन Institutions के लिए बनाया गया था जो Network और Technology से जुडी हुयी हैं| जैसे की ISP (Internet Service Provider) आदि| .net को भी अब कोई भी करीद सकता हैं| .com के बाद .net extension का ही प्रयोग पूरे दुनिया में सबसे ज्यादा होता हैं|
  • .org: Organization का Short Form “org” हैं|.org nonprofits संस्था के लिए हैं| लेकिन आज लोग Nonprofit, Profit, School और Communities TLD के रूप में प्रयोग कर रहे हैं|
  • .edu: Education का Short Form “edu” हैं| .edu Domain Extension केवल education institutions के लिए हैं| जैसे की School, College और University आदि|
  • .gov: Goverment का Short Form “gov” हैं| .gov केवल Americal Government Agency ही use कर सकती हैं| Indian Govt. के लिए .gov.in हैं|
  • .info: Information का Short Form “info” हैं|
  • .biz: Bussiness का Short Form “biz” हैं|

2. Country Code Top-Level Domains (ccTLD)

TLD को तो कोई भी देश के लोग प्रयोग कर सकते हैं| लेकिन कुछ TLD जैसे की .gov और .mil केवल US के लिए Reserved हैं|

लेकिन अगर कोई Country .gov और .mil को use करना चाहता हैं तो उसके लिए सभी country दो letter ISO code के आधार पर domain extension निर्धारित किया गया हैं| जैसे India के लिए .in

ccTLD के सहायता से Indian Government .gov को .gov.in के रूप में प्रयोग करती हैं|

ccTLD को हम तब प्रयोग करते हैं जब हमे किसी निश्चित Country या Location Target करना होता हैं|

अगर आपका Bussiness, Company, Product या फिर कोई Service सिर्फ India में उपलब्ध हैं तो आप .com के अलावा .in का भी प्रयोग कर सकते हैं|

उदाहरण के तौर पर कुछ Important ccTLD Extension इस प्रकार हैं-

  • .in (India)
  • .us (United States)
  • .au (Australia)
  • .cn (China)
  • .ru (Russia)
  • .br (Brazil)
  • .pk (Pakistan)

3.Internationalized country code Top-Level Domains (IDN ccTLD)

Internationalized country code top-level domains (IDN ccTLDs) एक प्रकार से ccTLP Domains ही हैं, जो अपने मूल Country के लिपि (Script) का उपयोग करते हैं|

उदाहरण के लिए India का ccTLD “.in” हैं और IND CCTLD “.भारत” हैं| .भारत को आप bharat.in वेबसाइट से खरीद सकते हैं|

अभी .भारत extension हिंदी के अलावा सात भारतीय भाषा में उपलब्ध हैं| .भारत Devanagari Lipi- Hindi, Bodo(Boro), Dogri, Konkani, Maithili, Marathi, Gujarati, Nepali और Sindhi भाषा में उपलब्ध हैं|

4. Generic Top-Level Domain (gTLD)

Top Level Domain (TLD) को ही Generic Top Level Domain (gTLD) कहते हैं| क्योंकि ये Domain किसी निश्चित देश के लिए न होकर अन्तराष्ट्रीय मतलब International domain हैं|

इसका एक उदाहरण है .com, जो कि Commercial use के लिए है, और सबसे ज्यादा प्रयोग होने वाला gTLD है। इस तरह के डोमेन को दुनिया में कोई भी प्रयोग कर सकता हैं|

सभी TLDs जैसे की .com, .net, .org, .gov, mil आदि gTLD हैं|

5. Second-Level Domains (SLD)

किसी domain name में .com के बायीं ओंर (Left Side) के हिस्से (Part) को Second Level Domain कहते हैं| अर्थात dot (.) के पहले वाले हिस्से को SLD तथा dot के बाद वाले हिस्से को TLD कहते हैं|

उदाहरण के लिए digitalnewindia.com में digitalnewindia SLD हैं और .com TLD हैं|

.com.in, .co.in, net.in, .gov.in, .org.in, .com.uk आदि Country Code Second Level Domains (ccSLDs) हैं|

6. Third-Level domains

सेकंड लेवल डोमेन के पहले आने वाले हिस्से या भाग को Third Level Domain कहते हैं| Third Level Domain को Sub-domain कहा जाता हैं|

उदहारण के लिए ask.digitalnewindia.com में “ask” थर्ड लेवल डोमेन या सब-डोमेन, “digitalnewindia” सेकंड लेवल डोमेन और .com टॉप लेवल डोमेन हैं|

www.digitalnewindia.com में “www” Third Level Domain हैं|

निष्कर्ष (Conclusion)

मुझे पूरा विश्वास हैं Domain Name Hindi में, से सम्बंधित सभी जानकारी आपको इस पोस्ट में मिल गयी होगी| जैसे की Domain Name क्या हैं (Domain Name Kya Hai), What is Domain Name in Hindi, Types of Domain Name, Domain Name Ke Prakar आदि|

अगर फिर भी आपको इसके बारे में कोई Doubt या कोई सवाल हैं तो आप मुझसे Email के माध्यम से या नीचे कमेंट करके पूछ सकते हैं| मेरी कोशिश रहेगी की मैं जल्द से जल्द आपके सवालो का जवाब दूँ|

13 COMMENTS

  1. Sir, I am a big fan of you, I see your post daily and get very good information. I have written a post similar to your post, so if you like it, please approve it

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here