आतंकी हमले में शहीद हुए भारतीय वीर जवानों को समर्पित

dedicated to martyrs of indian army

आसमान भी रोया था
धरती भी थर्रायी थी
किसी को न मालूम था यारो
किस घडी मौत ये आयी थी|

माँ का एक टक चेहरा था
आँखों में बहते आंसू थे
पुत्र थे उनके शहीद हुए
जो मातृभूमि के नाते थे|

पत्नी का तिलछना- चिल्लाना
सीने में तीर चुभाता था
एक मात्र सहारा था उनका
वह भारत माँ का बेटा था|

बेटे के सर से हाथ गया
चलना वह जिससे सीखा था
कंधो का भी अब राज गया
वह बैठ जहाँ जग देखा था|

india army sradhanjali

माँ की सूनी गोद हुई
पत्नी का भी सिंधूर मिटा
पिता के दिल में आह उठी
पुत्र का हाथ भी छूट गया|

गर्व हैं इन परिवारों को
अपनी उन संतानों पर
मातृभूमि के लिए समर्पित
हुए वीर बलिदानों पर

नेताओं क्यों बैठे हो
बदला लो गद्दारों से
अगर खून में गर्मी बाकी हैं
सर बिछा दो तुम तलवारों से

बदला ले इस वीर का तुम
उन वीरों का सम्मान रखो
माता-पिता और पुत्र के सर
मातृभक्ति का ताज रखो|

आतंकी हमले में शहीद हुए भारतीय वीर जवानों को समर्पित
5 (100%) 5 votes

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

For security, use of Google's reCAPTCHA service is required which is subject to the Google Privacy Policy and Terms of Use.

I agree to these terms.